Sunday, September 22, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > अब दिल्ली पहुंची माब्लिंचिंग की आग ।

अब दिल्ली पहुंची माब्लिंचिंग की आग ।


डॉ. मोहम्मद मंज़ूर आलम

अब देश की राजधानी दिल्ली भी भीड़ तंत्र के पागलपन से नहीं बच पाई , जहाँ संसद है , सुप्रीम कोर्ट है , राष्ट्रपति भवन है और पूरी सरकार मौजूद है । इस प्रकार के हमले से साफ़ हो गया है कि सरकार ने हिन्दुत्व के नाम पर गुंडागर्दी और क़त्ल करने की  पूरी छूट दे रखी है और यही कारण है कि सरकार कानून बनाने से कतरा रही है । अपने इन विचारों को आल इंडिया मिल्ली काउंसिल के महासचिव डॉ. मोहम्मद मंज़ूर आलम प्रकट कर रहे थे । उन्होंने कहा कि पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर मामूली वाद विवाद में का़री ओवैस को दुकानदारों ने पीट पीट कर मार डाला , लोग उसे मारते हुए देखते रहे  , वीडियो बनाते रहे मगर उसे बचाने के लिए कोई आगे नहीं आया और ना ही वक़्त पर पुलिस पहुची । सरकार की ओर से इस भीड़ तंत्र के विरुद्ध साकारात्मक पहल न करने के कारण एसे हमले बढ़ते जा रहे हैं ।

उनहोंने आगे कहा कि अब तो  एक दिन में कई कई  जगहों पर भीड़ तंत्र की गुंडागर्दी के समाचार पढ़ने और देखने को मिल रहे हैं  । जिस दिन पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर हमला हुआ है  , उसी दिन मेरठ में भीड़ तंत्र ने एक नौजवान की पिटाई की है  । शामली में पांच हिन्दू महिलाओं को बच्चा चोर समझकर मार पीट की गई और अगर पुलिस वक़्त पर नहीं पहुंचती तो उन महिलाओं को भीड़ मार देती  । बरेली में एक मदरसा पर हुजूम ने पत्थर फेंके गए , बिहार से भी माब्लिंचिंग की खबर आई है । ये सारे मामले बता रहे हैं कि ला इन आर्डर नाम की कोई चीज़ नहीं है, भीड़ तंत्र को अब किसी का खौफ़ नहीं है  , वो जब चाहती है किसी की भी जान ले लेती है  और इनके शिकार हिन्दू और मुसलमान दोनों होते हैं । अब ये आग दिल्ली तक पहुंच गई है  , इस लिए सरकार जल्द से जल्द माब्लिंचिंग के विरुद्ध ठोस कानून बनाए  ।