Saturday, October 19, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > कर्नाटक में कल क्या होगा , कांग्रेस + जे डी एस सरकार रहेगी या जाएगी ।

कर्नाटक में कल क्या होगा , कांग्रेस + जे डी एस सरकार रहेगी या जाएगी ।

कर्नाटक मामले पर सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने आज अपने फैसले में साफ साफ कहा है कि वधायकों का त्याग पत्र स्वीकार करना या न करना विधान सभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार के कार्यक्षेत्र में आता है , वो इस पर निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं लेकिन फलोर टेस्ट के समय वो नाराज़ वधायकों पर किसी प्रकार का दवाब नहीं डाल सकते । मुमकिन है कल फलोर टेस्ट हो और मजूदा सरकार बहुमत सिद्ध करदे और फिर से मंत्री मंडल का गठन हो । अगर सरकार बहुमत सिद्ध नहीं कर पाती है तो फिर राज्यपाल कार्यालय पर सब की नजर होगी कि वो किसे सरकार गठन के लिए बुलाते हैं । अभी मौजूदा सरकार दावा कर रही है कि वो बहुमत सिद्ध कर देगी , दुसरी ओर भाजपा भी सरकार गठन की तयारी कर रही है , भाजपा को पूरी उमीद है कि इस सरकार के पास बहुमत नहीं है । दोनों ओर के दावों दम है और दोनों के अपने अपने तर्क हैं , अब ये तो फलोर टेस्ट के बाद ही पता चलेगा कि किस के दावों में कितना दम है ।

कर्नाटक में कांग्रेस+जे डी एस सरकार पर जो संकट आया है , उसे राहुल गांधी के त्याग पत्र से जोड़ कर भी देखा जा रहा है कि उनके त्याग पत्र के एलान के बाद ही कांग्रेसी नेताओं में भगदड़ मची है । तेलंगाना हो , गोवा हो या कर्नाटक में जो कांग्रेसी नेताओं में उदासी देखी गई है वो राहुल गांधी केत्याग पत्र देने और फिर नये नेता केचुनाव नहीं होने से उत्पन्न हुई है । अभी जो नेता कांग्रेस छोड़ कर भाजपा में जा रहे है , उनके सामने कोई नज़रिय नहीं है , वो तो केवल अपना फायदा देख रहे हैं और ऐसे नेता किसी पार्टी के वफादार नहीं हो सकते हैं । इस प्रकार के नेताओं पर लगाम लगाने के लिए सर्व दलीय बैठक कर के विचार विमर्श किया जाना चाहिए और कोई सख़्त क़ानून की व्यवस्था करनी चाहिए ताकि पार्टियों में टूट फूट की आशंकाओं को बड़ी हद तक दूर किया जा सके ।