Saturday, October 19, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > क़तर में इंटरनेशनल मुशायरा का कामयाब आयोजन । ” बज़्म ए उर्दू क़तर ” ने रचा इतिहास ।

क़तर में इंटरनेशनल मुशायरा का कामयाब आयोजन । ” बज़्म ए उर्दू क़तर ” ने रचा इतिहास ।

पिछले दिनों क़तर की मशहूर साहित्यिक संस्था ” बज़्म ए उर्दू क़तर ” की ओर से डी पी एस एम आइ एस स्कूल ( अल बकरा )के आडिटोरियम में एक शानदार इंटरनेशनल मुशायरा का आयोजन किया गया । इस मुशायरा की अध्यक्षता जश्न ए बहार ट्रस्ट की संरक्षक कामना प्रसाद ने की और मुख़्य अतिथि के रूप में भूतपूर्व केन्द्रीय मंत्री व फ़िल्म कलाकार शत्रुघन सिंहा शामिल हुए ।

” बज़्म ए क़तर ” के संरक्षक सबीह बुखा़री ने अपने स्वागत भाषण में साहित्यिक संस्था के लम्बे इतिहास व उसके कार्यकर्मों से लोगों को अवगत कराया और सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए इस एतिहासिक इंटरनेशनल मुशायरा में उनके भाग लेने पर उनका शुक्रिया अदा किया ।

संस्था के महासचिव अहमद अशफ़ाक़ ने शत्रुघ्न सिन्हा का विस्तृत परिचय पेश किया । कमीटी के अन्य सदस्यों ने सभी मेहमानों का भव्य स्वागत किया । इस अवसर पर सभी मेहमानों को मेमेंटो भी पेश किया गया ।

इस अवसर पर शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने अनोखे अंदाज़ में लोगों के सामने विचार रखे , जिसे लोगों ने बहुत पसंद किया , उनहों ने सबीह बुखा़री और उनके साथियों को इतना अच्छा और बड़ा मुशायरे के आयोजन करने पर मुबारकबाद दी ।

कामना प्रसाद ने उर्दू व उसकी संस्कृति और मुशायरा की भुमिका पर अपने विचार को पेश किया और बज़्म ए क़तर के सभी लोगों को मुबारकबादी दी । प्रोग्राम के पहले भाग का संचालन अहमद अशफ़ाक़ ने किया और दूसरे भाग मुशायरा का संचालन अंबर आबिद ने बहुत अच्छे ढंग से किया ।

इस मुशायरा में हसन काज़मी , मीनू बख़्शी , बिस्मिल आरिफ़ी , एजाज़ असद , इमरान आमी , आरिफ़ अली आरिफ़ , अंबर आबिद , हाशिम फि़रोजा़बादी , शादाब आज़मी , फौजि़या रवाब , शौकत अली नाज़ , अहमद अशफ़ाक़ , मंसूर आज़मी , और राक़िम आज़मी ने अपनी शायरी से लोगों का भरपूर मनोरंजन किया ।

ये मुशायरा क़तर के इतिहास में अब तक का सब से बड़ा मुशायरा रहा जिस में भारत और पाकिस्तान से 10 शायरों का बुलाया गया और मुशायरा सुनने वालों की संख्या ने तो इतिहास रचा दिया । इस मुशायरा की कामयाबी का सेहरा संस्था के संरक्षक सबीह बुखा़री और महासचिव अहमद अशफ़ाक़ के साथ साथ संस्था से जुड़े हर उस व्यक्ति को जाता है जिंहोंने इस प्रोग्राम को कामयाब बनाने में अपनी ओर से योगदान दिया है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *