Sunday, September 22, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > देश से भय का वातावरण कैसे समाप्त होगा और क्या ये प्रधान मंत्री मोदी से संभव है ।

देश से भय का वातावरण कैसे समाप्त होगा और क्या ये प्रधान मंत्री मोदी से संभव है ।

बिहार मुस्लिम युवा मोर्चा के अध्यक्ष एवं दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग में अडवाइजर इंजीनियर उबैदुल्लाह ने कहा कि घर वापसी की आंदोलन एवं गौरक्षा के नाम पर हिंसा के माध्यम से मोदी सरकार के शुरुआती दिनों में मुसलमानों के मन मे भय उत्पन्न करने का काम किया गया। फिरकापरस्ती को अपना सबसे मजबूत हथ्यार मान कर दशकों से उस पर चलने वाली RSS की चहेती भारतीय जनता पार्टी जब से सत्ता में आई तब से देश मे अलग प्रकार का माहौल पैदा हो गया जिस से सभी अल्पसंख्यक विशेष कर मुसलमान अपने आप को डरा महसूस करने लगा है ।

भारतीय जनता पार्टी के कट्टर नेताओं ने ज़हरीले बयान बार-बार देकर देश को आग में झोंक दिया , जिसमें न जाने कितने अख़लाक़, पहलू, हाफिज जुनैद आदि ने अपने परिवार को सदा के लिए छोड़ दिया । वैसे तो न जाने कितने शगूफे छोड़े गए लेकिन गौरक्षा के नाम पर जितना हंगामा और मुसलमानों के जीवन को कठिन बना दिया गया बहुत ही दयनीय है । गाय के नाम पर सैकड़ों लोगों की हत्या की गई मगर देश के प्रधानमंत्री चुप-चाप नज़ारा देखते रहे लेकिन उन्होंने इसपर अफसोस तक जताने की आवश्यकता महसूस नही किया ।



प्रधानमंत्री के ताज़ा बयान को इंजीनियर उबैदुल्लाह ने स्वागत किया है और कहा है कि पहली बार प्रधानमंत्री मोदी ने देश के माहौल से भयभीत मुसलमानों को भाई कह कर पुकारा है । क्या ही अच्छा होता अगर इसी के साथ देश भर में फ़र्ज़ी गौरक्षकों को लगाम लगाने के लिए उपयुक्त क़ानून बना कर मुसलमानों का दिल जीतने का काम करते । अगर सच मे प्रधानमंत्री जी देश के मुसलमानों का दिल जीतने चाहते है तो असामाजिक तत्वों पर कार्यवाही करके देश को मजबूत संदेश दें । अगर प्रधानमंत्री जी सच मे भय की राजनीति को समाप्त करना चाहते है तो उन्हें गंभीरतापूर्वक सबसे पहले खुद की आत्मसमीक्षा करनी होगी तथा संघ परिवार के किरदार की जांच करनी होगी और इसपर नज़र भी रखनी होगी ।

( इंजीनियर ओबैदुल्लाह )