Sunday, September 22, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > बिहार का स्वास्थ्य मंत्रालय सोया हुआ है ।

बिहार का स्वास्थ्य मंत्रालय सोया हुआ है ।

 

बिहार में स्वास्थ्य मंत्रालय की चुप्पी जब चमकी बुखार से मरने वाले 200 से अधिक बच्चे न तोड़ सके तो ये एक दो मौतें चाहे वो डॉ.की लापरवाही से ही क्यूं न हुई हो , क्या तोड़ पाएंगी । समस्तीपुर सदर अस्पताल में आये दिनों डॉ. की लापरवाही और सहुलतों का न रहना अक्सर मौत का कारण बनता है । किसी की मौत के बाद दो चार दिन हंगामा रहता है और फिर धीरे धीरे सब समान्य हो जाता है । अभी दो दिन पहले एक 22 वर्ष की लड़की सितारा परवीन ( पिता : शाकिर ) की मौत हो गई तो फिर से हंगामा हुआ , व्यवस्था ठीक करने का यक़ीन दिलाया गया  , लापरवाही के लिये जांच कमिटी बनाई गई लेकिन इन सब से कुछ होने वाला नहीं है । अस्पताल की व्यवस्था पर एक नज़र डालतें चलें तो सब समझ में आ जाएगा ।


चिकित्सकों से  जानकारी के आधार पर अस्पताल में स्वीकृत 44 चिकित्सको के पद है किन्तु अस्पताल में मात्र 22 चिकित्सक ही है l  CBC जाँच केमिकल के आभाव में विगत 15  दिनों से बंद है l  अल्ट्रासॉउन्ड मशीन शोभा की वस्तु बनके रह गई है क्योकि इसका उपयोग नहीं हो रहा है l  अस्पताल में एनेस्थीसिया तथा फिजिशियन M.D नहीं है l  अस्पताल का भवन कई जगहों पर जर्जर है तथा बारिश का पानी सदैव टपकता रहता है l  अस्पताल का I.C.U कई वर्षो से बन कर तैयार है किन्तु चिकित्सा कर्मियों के आभाव में I.C.U मे ताला लटका हुआ है ।