Tuesday, June 18, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > भांड में जाये जनता , अपना काम बनता ।

भांड में जाये जनता , अपना काम बनता ।

गुजरात दंगे से मशहूर होने वाले नरेन्द्र मोदी स्वभाविक तौर पर आर एस एस के लिए बी जे पी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार बने क्योंकि उनके व्यक्तित्व में वह सभी लक्षण मौजूद थे जो मुस्लिम दुश्मन हिन्दू राष्ट्र के लक्ष्य को हासिल करने के लिए ज़रूरी था और मोदी क्रमबद्घ रुप से उस ओर ही अग्रसर हैं । प्रस्तावित हिन्दू राष्ट्र दलित और पिछड़ा विरोधी होने के साथ फासीवादी स्वभाव के कारण मानवता विरोधी भी है ।

ये सरकार भारत में रहने वाले अधिकतर लोगों के लिए अस्वीकार्य है , जनता को गुमराह करने के लिये इन्होने सब का साथ साथ सबका विकास का नारा दिया लेकिन अभी तक लोगो के जीवन स्तर में कोई सुधार नही हुआ है केवल डर और नफरत में वृद्धि हुइ है । अगर कोई सरकार के खिलाफ बोलता है तो उसे गद्दार करार दिया जाता है , भाजपा नेताओं को बंदे मातरम याद नहीं है लेकिन सबको इसे गाने के लिए मजबूर किया जाता है । देश का हर नागरिक देश से प्रेम करता है लेकिन उनसे वफ़ादारी साबित करने के लिए कहा जाता है । कई न्यूज़ चैनल भाजपा के समर्थक व्यवसाइयों और नेताओ के है और हमेशा हिंदू मुस्लिम गद्दार वफ़ादार हिन्दुस्तान पाकिस्तान पर डिबेट कराने में लगे रहते हैं ताकि वोटरो का धुर्वीकरन हो सके , हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने मोदी के लिए पसन्दीदगी का इजहार किया है ,आख़िर मोदी और पाकिस्तान के बीच चल क्या रहा है ।

प्रतिष्ठानों को तबाह बर्बाद करने का सुनियोजित प्रयास किया जाता रहा है , भ्रस्टाचार को सन्वैधानिक बनाने की कोशिश की गई ताकि कारपोरेट और विदेशी ताकते हमारी राजनैतिक शक्तियो को खरीद सकें । रिश्वत का ये हाल है कि बड़ी आसानी से कोई यह कह देता है कि मैं एक हज़ार करोड़ रुपये देता हूँ अगर यह विशेष पालिसी पास कर दो । भाजपा बड़ा बड़ा वादा कर के सरकार मे आई जैसे कालाधन वापस लाएगी , सबके खाते मे 15 लाख आ जाएगा , हर साल 2 करोड़ युवाओ को रोजगार मिलेगा लेकिन ललित मोदी , विजय माल्या नीरव मोदी जैसे लोग देश का सफ़ेद धन लूटने मे लगे रहे और सरकार बेरोजगार युवको को पकौड़ा तलने का सलाह देती रही ।

फ़ासीवादी हिन्दूवादी उन्मादी मान्सिक्ता को इस कदर विकसित करने की कोशिश की गई कि हिंसक भीड़ ने कई स्थान पर गाय के नाम पर निहत्थे मुसलमानों की हत्या की गई । आतंकवाद को मज़हब की पहचान दी गई , साध्वी प्रग्या जैसे आतंकवाद के आरोपी को चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया गया है , करकरे जैसे शहीद पुलिस अफसर को गद्दार करार दिया जा रहा है । चुनाव के चार चरण का मतदान खत्म हो गया है , भाजपा के हार के संकेत मिल रहे हैं , मोदी के जाने से निसन्देह देश चैन की सांस लेगा और एक बार फिर से देश में भाई चारा के साथ देश विकास की ओर बढेगा ।

 शाहीन अहमद सिद्दीक़ी 

        ( नई दिल्ली )