Sunday, September 22, 2019
HINDI NEWS PORTAL
Home > Samachar > राहुल गांधी पर आपत्तिजनक बयान के बाद मुंगेर में सुब्रमण्यम स्वामी का पुतला दहन ।

राहुल गांधी पर आपत्तिजनक बयान के बाद मुंगेर में सुब्रमण्यम स्वामी का पुतला दहन ।

भारतीय जनता पार्टी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा राहुल गांधी पर दिए गए आपत्तिजनक बयान के बाद आक्रोशित कांग्रेसजनों के द्वारा मुंगेर ज़िला कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के जिला अध्यक्ष तारीक़ अनवर के नेतृत्व में स्थानीय राजीव गांधी चौक पर सुब्रमण्यम स्वामी का पुतला दहन किया गया। पुतला दहन के पश्चात सभी उपस्थित कांग्रेसजनों एवम जनता को सम्बोधित करते हुए तारीक़ अनवर ने कहा के भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी जो हमेशा अपने विवादित बयानों के कारण सुर्ख़ियों में रहते हैं उन्होंने कांग्रेस के निर्वतमान अध्यक्ष राहुल गांधी जी पर अभद्र टिप्पणी कर हमेशा की तरह अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दिया है।इससे पहले भी वो सोनिया गाँधी जी और प्रियंका गांधी जी पर अभद्र और अशोभनीय टिप्पणी कर चुके हैं। तारीक़ अनवर ने कहा के भाजपा ने उन्हें गांधी परिवार की निम्न स्तरीय आलोचना के लिए ही सर पर चढ़ाया हुआ है। इसलिए कभी सुब्रमण्यम स्वामी राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाते हैं और कभी राहुल गांधी पर कोकीन का नशा करने का आरोप लगाते हैं। यह भाजपा नेताओं की कुंठित मानसिकता को दर्शाता है।

मुंगेर ज़िला के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मोहम्मद कमाल ने कहा के जब-जब जनता रोज़ी रोटी रोज़गार शिक्षा स्वास्थ जैसे मौलिक मुद्दों की बात करती है तो ऐसे ही कुटिलता से उन सवालों को विमर्श के केंद्र से हटाने के लिए भाजपा द्वारा ऐसे हथकंडे अपनाये जाते हैं ताकि जनता अपने सवालों को भूल जाए।
सुब्रमण्यम स्वामी ने राहुल गांधी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि राहुल की पार्टी को यूपी बिहार की 120 लोकसभा सीटों में केवल 2 पर विजयी बनाकर जनता ने खारिज कर दिया।
मोहम्मद कमाल ने कहा सुब्रमण्यम स्वामी ने राहुल गांधी पर व्यक्तिगत टिप्पणी करते हुए जिस तरह नशा करने का आरोप भी लगाया है वो बहुत ही निंदनीय है। समाज सेवी एवम मूवमेंट फ़ॉर एडुकेशन एन्ड इम्पावरमेंट ऑफ मासेज़ के स्थानीय प्रतिनिधि फ़र्रह शकेब ने कहा के स्वामी जी को यह पता नहीं है कि यह लोकतंत्र है और हार जीत लगी रहती है। 1984 के लोकसभा चुनाव में स्वर्गीय राजीव गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी को 414 सीटों पर जीत हासिल हुई थी एवं भाजपा को मात्र दो ही सीटों पर सन्तोष करना पड़ा था। स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई जी भी अपना खुद की सीट नहीं बचा सके थे। 1970 में कांग्रेस चुनाव हार गई थी लेकिन 1980 में स्वर्गीय इंदिरा गांधी के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत से कांग्रेस ने सरकार बनाई थी। अगर इतिहास के पन्ने खंगाले जाएं तो जनता को ये मालूम होगा के तब सुब्रमण्यम स्वामी भी कांग्रेस की रोटी खाया करते थे ।

सुब्रमण्यम स्वामी जी को यह बात समझना चाहिए कि वह क्या बोल रहे हैं , यह लोकतंत्र है और लोकतंत्र में हार जीत लगी रहती। भाजपा के नेतागण वैचारिक रूप से इतने दरिद्र हैं कि एम्स में जाकर इलाज करवाते हैं और बैंकों के राष्ट्रीयकरण का लाभ लेते हैं और पार्टी मीटिंग के लिए देश के किसी एयरपोर्ट से बाहर निकलते हुए जनता से कहते हैं कि कांग्रेस ने 70 सालों में सिर्फ देश को लूटा है, कुछ बनाया नहीं है। न्यूक्लियर पावर गांव-गांव तक बिजली सड़क, भावा एटोमिक सेंटर, इसरो जैसे संस्थान कांग्रेस की ही देन है। हरित क्रांति से लेकर कंप्यूटर मोबाइल सब कांग्रेस की ही देन है जिसके बल पर आज भाजपा का आईटी सेल चल रहा है और फ़र्ज़ी अफवाहों का प्रचार प्रसार हो रहा है। ऐसे ही ओंछी मानसिकता के लोग देश में अशांति फैलाते हैं और शांति की बात करते हैं। सुब्रमण्यम स्वामी की इस आपत्तिजनक बयान का संज्ञान लेते हुए दिनांक 11 जुलाई 2019 दिन बृहस्पतिवार को स्थानीय राजिव गांधी चौक पर शाम के 6ः00 बजे सुब्रमण्यम स्वामी का पुतला जनता द्वारा जिला कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष मोहम्मद तारीक अनवर के नेतृत्व में दहन किया गया , जिस में सैकड़ों लोग शामिल हुए ।