Home > Sahitya

आज का वोटर और राजनीतिक पार्टियां ।

बानो  आज सुबह भी देर से आई। समीना बड़ बड़ाते  हुए बोली - क्या बात है, आज कल  तुम दो- तीन महीने से जब दिल चाहता है , लेट हो जाती हो। बानो बोली - बाजी , चनाव होने वाले हैं। नेताओं के जलसे  जुलूस होते रहते हैं। बाहर से भी नेता आते- जाते

Read More

एक शायरा — एक ग़ज़ल

गायत्री मेहता एक आर्किटेक्ट हैं और कागज़ पर दुनिया आबाद करती हैं , स्कूल के दिनों से कविताएं लिखने का शौक़ है मगर अपनी इस प्रतिभा को उन्होंने छुपाया या फिर इस के लिए समय नहीं निकाल पायीं , दोनो सूरतों में साहित्य और हम जैसे पाठकों का बड़ा नुक़सान

Read More

संदीप शजर की शायरी ।

संदीप शजर दिल्ली के जाने माने कवि हैं , आप गीत और ग़ज़ल के माध्यम से देश में सद्भाव की गंगा बहाने वाले साहित्यकार हैं । अपनी ग़ज़ल और गीतों में परस्पर प्रेम को परिभाषित कर स्नेह परोसते हैं । युवा राष्ट्र के साहित्य नायक संदीप शजर ने दूरदर्शन,

Read More

एक शायरा — एक ग़ज़ल

ज़ुलमतें शब को बहर तौर तो ढलना होगा अब हर इक सीप से मोती को निकलना होगा सो चुके हैं जो सभी ख्वाब जगाओ लोगो दिल को ताबीर की ख्वाहिश पे मचलना होगा अब तो गिर गिर के सभलने का रवादार नहीं ठोकरों से तुम्हें हर बार सभलना होगा अपने आसाब को जज़्बात

Read More

एक शायर — एक ग़ज़ल

अता आबदी उर्दू शायरी का एक ऐसा परिचित नाम है , जिनकी कई पुस्तकें छप चुकी हैं और जिन्हें आलोचकों व पाठकों ने पसंद किया है । राष्ट्रीय स्तर के कई सम्मान से आप को सम्मानित किया जा चुका है । अता आबदी की एक ग़ज़ल " तेवर न्यूज़ "

Read More

एक शायरा — एक ग़ज़ल

हर एक घड़ी नब्ज़ मिरी डूब रही है कैसे मैं कहूँ जीने की उम्मीद लगी है जागी हूँ तिरी याद में आसुं भी बहाये तब जा के मुहब्बत की ये तस्वीर बनी है पहले ही भटकती हूँ मैं अंजान नगर में अब लेके मुझे जिंदगी किस सम्त चली है हर एक फसाने में नुमायां

Read More

एक शायर — एक ग़ज़ल

मसअला ज़ुल्म व जफ़ा को हो तो ताअत कैसी इश्क़ के खेल में अंधों सी अक़ीदत कैसी बे वफ़ा लोगों से कटने पे निदामत कैसी अब अगर टूट गए हो तो शिकायत कैसी नग़मग़ी लेके मैं नस नस में समा जाऊंगा मैं तो एहसास हूँ एहसास में खलवत कैसी तुम को तसकीन ज़ेहन से

Read More

एक शायरा —- एक ग़ज़ल

रहा जो बरसों मिरे साथ ज़िंदगी की तरह वो शख्स आज मिला मुझ से अजनबी की तरह अंधेरे मुझको उसी ने दिए हैं तोहफ़े में मैं जिस की आँख में बस्ती थी चाँदनी की तरह उन्हें बताए भला कौन इश्क़ का मतलब जो लोग प्यार भी करते हैं दिल्लगी की तरह मिरी किताब

Read More