Home > Sahitya > एक शायर — एक ग़ज़ल

एक शायर — एक ग़ज़ल

बन्द है जो ज़ुबान खोलूँ क्या
सुन सकोगे मुझे मैं बोलूँ क्या

तेज़ बारिश है और मौक़ा भी
मैं तुझे साथ में भिगो लूँ क्या

तेरी मंज़िल ही मेरी मंज़िल है
मैं तेरे साथ साथ हो लूँ क्या

मर चुका है जो मुझमें ज़िन्दा था
नब्ज़ उसकी मैं अब टटोलूँ क्या

मैं तुम्हारा हूँ बस तुम्हारा हूँ
तो किसी और से न बोलूँ क्या

ज़ब्त मश्कूर जान ले लेगा
बैठकर थोड़ी देर रो लूँ क्या

मश्कूर ममनून कन्नौजी

कन्नौज , यू पी , भारत

***********************************************

***********************************************

**********************************************

One thought on “एक शायर — एक ग़ज़ल

  1. mashkoor mamnoon kannauji ek naam hai jo shayari ke pairaahan badlega apni junoon ki had bat ki shkhti ki qaifiyat aur haq shanashi haq goyayai aapki shayari ka sarmaya hain unka padhne ka andaz apne aap me saamyeen ko sach tasee kara jata hai woh qaamyaab ho chuke hain aur ab unko shayari ka sar buland aitara banne se koi rok nahi sakta badi sanshtaon aur layek portals ko aise promoising young talent ko aage laan e me bahut zyadda koshish karni hogi tabhi baat banegi

    shah kannauji

Comments are closed.