Home > Samachar > छठे चरण के चुनाव के बाद भाजपा की हताशा और बढ़ी ।

छठे चरण के चुनाव के बाद भाजपा की हताशा और बढ़ी ।

जैसे जैसे चुनाव सम्पन्न होते जा रहे हैं , भाजपा की हताशा बढ़ती जा रही है । अब केवल एक चरण का चुनाव शेष रह गया है जो 19 मई को होना है और इस अंतिम चरण में, 59 सीटों के लिये चुनाव होना है । पहले चरण के बाद ही भाजपा में हताशा बढ़ने लगी थी और जैसे जैसे चुनावी चरण समाप्त होता गया , भाजपा की हताशा बढ़ती चली गई । भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ साथ अन्य नेताओं ने मुद्दा विहीन बात करने लगे । 2014 में आये थे विकाश के एजेंडे के साथ लेकिन एक काम भी नहीं हुआ तो अब राष्ट्रवाद और आतंकवाद करने लगे , क्या अब भी देश की जनता इतनी मुर्ख है कि उसे इस प्रकार बहलाया जा सकता है , अगर उत्तर नहीं है तो समझलें भाजपा की सरकार गई ।

अब तो भाजपा की सहयोगी पार्टियों और भाजपा के नेताओं ने भी कहना शुरू कर दिया है कि राजग को बहुमत नहीं मिल पाऐगा , कुछ नेताओं ने तो कहा है कि राजग 200 तक भी नहीं पहुंचेगा , ऐसे में भाजपा का हताश होना स्वाभाविक है । यही कारण है कि भाजपा के ज़रिए देश की राजनिति को गलत दिशा देने का प्रयास किया जा रहा है । बड़े बड़े मंचों से झुठ फ़ैलाने की कोशिश हो रही है , तिल का तार बनाया जा रहा है लेकिन मुद्दों पर बात करने से भाजपा के नेता भाग रहे हैं । अब तो राजग से अलग रहने वाली पार्टियों ने नई सरकार बनाने की ओर पहल करते हुए एक मोर्चा बनाने के लिये पहल भी शुरू कर दी है , इस से भाजपा में और हताशा बढ़ीं है और आगे और बढ़ेगी ।