Home > Samachar > शिक्षकों के प्रस्तावित आंदोलन का नैतिक समर्थन

शिक्षकों के प्रस्तावित आंदोलन का नैतिक समर्थन

बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के तत्वावधान में नियोजित शिक्षकों के सेवा शर्त नियमावली का निर्धारण और सातवां वेतन आयोग की अनुशंसा के अनुरूप वेतनमान सहित लंबित कई मांगों को लेकर 26 नवम्बर से लेकर 28 नवम्बर तक तीन दिन लगातार विधानमंडल के समक्ष आहूत होने वाले  “धरना -प्रदर्शन ”  को नैतिक समर्थन देते राजद के प्रदेश प्रवक्ता व विधायक अख्तरुल इस्लाम शाहीन ने कहा कि समान काम के बदले समान वेतन मिलना चाहिए । उन्होंने कहा कि नियोजित शिक्षकों की सभी मांगे जायज है तथा सरकार को इस ओर न्यायोचित पहल करनी चाहिए ।

राजद विधायक ने कहा कि सरकार शिक्षकों को सामान काम समान वेतन दे , पुरानी पेंशन योजना को पुनः लागू करें,  पुराने समय में मिलने वाली अनुकम्पा का लाभ दे  ,सेवा शर्त लागू करे  , ग्रुप बीमा एवं समान भविष्य निधि का लाभ दें ।

राजद विधायक श्री शाहीन ने कहा कि ठेकाकरण – संविदाकरण गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के रास्ते में बाधा पैदा कर रही है । समान स्कूल प्रणाली को लागु करने के जरिये ही शिक्षा के निजीकरण को रोका जा सकता है । बिहार के नागरिक भी इस मसले पर शिक्षकों के साथ हैं और सार्वजनिक शिक्षा बचाने की लड़ाई में मजबूती से खड़े रहेंगे । उन्होंने कहा कि शिक्षक नेताओं से सम्मानजनक वार्ता हेतु सरकार को कदम बढ़ाना चाहिए । शिक्षकों के वेतन में भेदभाव अनुचित है सरकार को अविलंब इसे दूर करना चाहिए ।